Top 30+ Barish shayari in Hindi | Romantic Barish par shayari

IMG 20210701 100259

Barish sayari in Hindi padhna barish ke mausam ki nazara kuchh alag reheta hai. Iss mausam ko dekhkar dil bahat khus hota hai, man bahat achha lagta hai .aur kuchh neyi soch , Kuchh purani yade, bachpan ki kahani ye sab dil main khelta reheta hai. Iss barish ki mausam main dil ke andar ho raha sare feelings ko hum eish madhyam se Barish Shayari in Hindi main post ki hai . App yadi chahate ho iss barish ki mausam main apke dil ke andar ho raha sare feelings ko, aap apne girl friend ya friend ko share karne ke liye. App hamare ye barish sayari in Hindi ke madhyam se share kar sakte hai.

Chack out also Trending post  Happy New Year Wishes for friends, One-up IndiaSonu Sharma motivation quotes, Happy New year shayari

Barish Shayari


Table of Contents

Barish shayari


मौसम की बिरिश का पानी जैसी
तुम्हारी दिलो का प्यार भी ऐसी
जब बारिश का पानी इस सरीर पर गिरता है
न जाने इस्स दिल तुम्हारे लिए प्यारी सी एक कबिता लिख देती है

Mausam ki birish ka pani jaisi
Tumhari dilo ka pyar bhi yesi
Jab barish ka pani iss sarir par girta hai
Na jane iss dil tumhare liye pyari si ek kabita likh deti hai


रात को जब बारिश होते
उस रात की नींद मैं तुम्हारी सपने आते
और उसी सपने मैं इसी बारिश की पानी में तुम भीग जाते
और तुम्हारी भीगता हुआ प्यारी सी चहरे को,
हम कभी कभी चूम लेते

Rat ko jab barish hote
Us rat ki neend main tumhari sapne ate
Or usi sapne main isi barish ki pani main tum bhig jate
Or tumhari bhigta hua pyari si chehere ko,
hum kabhi kabhi chum lete


छत मैं बैठ कर बरसात की मजे लेना
बरी की छोटे छोटे बुँदे की टप्पे को गिनना
और नीचे गिरते हुए पानी की टप्पे को हतो से सहलाना
क्या खूबसूरत ये नज़राना
जिसे बार बार दिल चाहता है करना

Chhat main beth kar barsat ki maje lena
bari ki chhote chhote bunde ki tappe ko ginna
Or niche girte huye pani ki toppe ko hato se sehelana
Kya khubsurat ye nazrana
Jise bar bar dil chahata hai karna


एक दिन था जब हम तुम एक ही छाते मैं कल्लोगे जाते थे
बारिश से मैं न भिगु
इसलिए तुम्हारी चुनरी से मुझे ढँक लेते थे
और जब बिजली भड़कते थे
तुम मुझसे चिपक जाते थे

Ek din tha jab hum tum ek hi chhate main calloge jate the
Barish se main na bhigu
isliye tumhari chunrie se mujhe dhank lete the
Aur jab bijli bhadakte the
Tum mujhse chhipak jate the

Barish Shayari


Barish shayari in Hindi


मन करता है तुम्हारी हाथ पकड़ के
इस भीगे हुए सड़क मैं थोड़ी कदम चल लो
जब बारिश से तुम ज्यादा भीग जाओगी
तब ही मेरा जैकेट उतारकर तुमको धनकलू

Man karta hai tumhari hath pakad ke
Iss bhige hue sadak main thodi kadam chal loo
Jab barish se tum zyada bhig jaogi
Tab hi mera jacket utarkar tumko dhankloo


मन करता है तुम्हारी हाथ पकड़ के
इस भीगे हुए सड़क मैं थोड़ी कदम चल लो
और तुम्हारी साथ बाते करते करते भिग जाऊ
बारिश में भीगने बाद जड़ मुझे ठण्ड लगेगा न
तुमको छिपक के पकडू

Man karta hai tumhari hath pakad ke
Iss bhige hue sadak main thodi kadam chal loo
Aur tumhari sath bate karte karte bhig jau
Barish main bhigne bad jad mujhe thand lagega na
Tumko chhipak ke pakdu


कहीं इस बारिश मैं तुमको भीगते हुए देखु
इस बारी के पानी साथ तुम्हारी प्यारी मुस्कराहट को देखु
और तुम्हारी होंठ से लगा हुआ पानी की बूँदी को मेरे हाथ से छू

Kahin iss barish main tumko bhigte hue dekhu
Is bari ke pani sath tumhari pyari muskurahat ko dekhu
Aur tumhari honth se laga hua pani ki bundi ko mere hath se chhu


आसमान में बादल छाया है
मेरे दिल मैं तुम्हारे लिए छोटी सी जगह है
जब बारिश होना शुरू हो जाएगी तुम दिल की अंदर आ जाना
और दिल की अण्डर का जो प्यार की मौसम है उसको पहेचानना

Asman main badal chhaya hai
Mere dil main tumhare liye chhoti si jagha hai
Jab barish hona suru ho jaegi tum dil ki ander aa jana
Aur dil ki andar ka jo pyar ki mausam hai usko pehechanna


Barish par shayari


तुमको प्यार करने के साथ साथ
बारिश के साथ भी प्यार हो गया
क्युकी इस ठंडी मौसम मई तुम्हारे साथ
कॉफ़ी पीने का मौका मिला

Tumko pyar karne ke sath sath
Barish ke sath bhi pyar ho geya
Kyuki iss thandi mausam Mai Tumhare sath
Coffee pine ka mauka mila


गुमसुम रातवाली बरसात मैं
हम और तुम एक ही कमरे में
उसी कमरे में एक बत्ती जलेगी
रात भर सौंगा तुम्हे गले लगाके

Gumsum ratwali barsaat main
Hum aur tum ek hi kamre main
Usi kamre main ek batti jalage
Rat bhar saunga tumhe gale lagake


इ बरसात अभी रुक न जा
मेरी हसीना चली जाएगी
और थोड़ी देर बरसाना
कुछ इश्क़ है बाकि

E barsaat abhi ruk na ja
Meri haseena chali jayegi
Aur thodi der barasana
Kuchh ishq hai baki


इसी बरसात की मौसम के तरहा
कहीं तुम्हारी प्यार न गिरजाये
खो जाउंगा तुम्हारी प्यार मै
मुलुंगा नेही तुम ढूँढ़ने म

Isi barsaat ki mausam ke tarha
Kahin tumhari pyar na girjaye
Kho jaunga tumhari pyar mai
mulunga nehi tum dhoondne m


Barish Shayari
Barish Shayari


Barish me shayari in Hindi


ये बरसात की मौसम है
चलो कहीं और जाते
और भीगी सड़क मैं चल कर
हम तुम कुछ पल बिताते

Ye barsaat ki mausam hai
Cholo kahin aur jate
Or bhigi sadak main chal kar
Ham tum kuchh pal bitate


बरसात की मौसम जल्द ही खत्म होती
सपने देखना पूरी नहीं होती
आपकी यादे इसतरह रेहे जाती
अंख बुझते बुझते रात खत्म होती

Barsaat ki mausam jald hi khatam hoti
Sapne dekhna puri nehi hoti
Apki yaade istarah rehe jati
Ankh bujhte bujhte rat khatam hoti


बारिश की हवा ने तुमको छुयी
मेरे यद् मैं ही तुम्हारी रेट गुजरी
तुम्हारी सोपनो मैं एके जो प्यार वाली बाते की
नजाने क्यों ये बरसात मुझे अच्छे लगने लगी

Barish ki hawa ne tumko chhuyi
Mere yad main hi tumhaari rate gujri
Tumhaari sopno main ake jo pyar wali bate ki
Najane kyu ye barsaat mujhe achhe lagne lagi


Thank you for visiting

Leave a Reply