40+ Best Chai shayari in Hindi for Chai Lover – हिंदी में बेहतरीन चाय शायरी

Chai Shayari in Hindi

Every Chai lover starting their day with a solid Chai. If you are also a Chai lover we have the best Chai Shayari in Hindi for you. Most of the Indian addicted to Chai or Tea. They are very sweet and they all have a sweetheart. In this post, you will share The Best Garam Chai Shayari in Hindi, Share this Chai Shayari photo on your Facebook and WhatsApp. Whenever you are with your friend and family tell Chai pe Shayari and impress them. And read our trending shayari in Hindi shayari Collestion website.

Chai Shayari in Hindi

”Chai Shayari in Hindi”

महक उठता है दिन
जब होठों से लगा लेता हूँ
यह चाय मेरी सुबह की
हर सुबह को बना लेता हूँ

Mehak uthta hai din
Jab hothon se laga leta Hun
Yah chai meri subah ki
har subah ko banaa leta Hun

कुछ मोहब्बत कहते हैं
कुछ ईबादत कहते हैं
ेशी चाय के नाम को
हम आदत कहते हैं

Kuchh mohabbat kahate Hain
Kuchh ibadat kahate Hain
Eshi chai ke naam ko
Hum aadat kahate Hain

मैं जब ऋतु एक बात याद रखना
मुझे मानाने क लिए बस
कप चाय का तयार रखना

Main jab ruthu ek baat yaad rakhna
Mujhe manane k liye bas
Cup chai ka tyar rakhna

ये इश्क़ महाबाट सब अफ़वान हे
असली प्यार तो चाय का मजा हे

Ye ishq mahabatt sab afwan he
Aasli pyar tho chai ka maja he

वो पुराने दोस्त, वो कुल्हड़ की चाय
वो पल लौट आये तो मजा आजाये

Wo purane dost, wo kulhad ki chai
Wo pal laut aaye to maja aajaye
Chai Shayari in Hindi

”Chai pe Shayari for Chai lover”

न गोरी देखते हे
न काली देखते हे
हम चाय शरीफ
चाय वाली देखते हे

Na gori dekhte he
Na kali dekhte he
Hum chai shrif
Chai wali dekhte he

कुछ नशा कहते हैं
कुछ सजा कहते हैं
इसे चाय के नाम को हम
जिंदगी में मज़ाक़ कहते हैं

Kuchh nasha kahate Hain
kuchh saja kahate Hain
Ise chai ke naam ko ham
Jindagi mein majak kahate Hain

हमारे प्यार को अधूरा मत मानना
अगर कह दूँ पहले ख्वाइश चाय
तो बुरा मत मानना

Hamare pyar ko adhura mat manana
Agar kah dun pahle khwaish chai
Tho Bura mat manana

इत्तिफाक हो कुछ ऐसा
सितारे मिलने मिलाने वाले मिले
दुआ हे नए साल में
मुफ्त में चाय पिलाने वाले मिले

Ettifak ho kuchh yesa
Sitare milne milane wale mile
Duaa he naye saal me
Muft me chai pilane wale mile

चाय को होठों से इस तरह लगने की
गम को हाईड कर देना
शायरी अगर पसंद आये तो दोस्त क साथ श्रे करना

Chai ko Hothon se is Tarah lagana ki
Gum ko hide kar dena
Shayari aagar pasand aaye to dosto sath shre karna

Chai Shayari in Hindi

”Garam Chai ki shayari”

CCD में कफ पिने वाला ुष इंतजार क्या समझेंगे
वो जो खुद जो बना क लातिथि ुष का प्यार को क्या समझेंगे

CCD me coffe pine wala ush intajar kya samjhenge
Wo jo khud jo bana k latithi ush ka pyar ko kya samjhenge

की खैर वो तो दिल तोड़ गयी
मगर में नही तोड़ पाया कभी
आरे में उसको क्या छोडता
जो चाय नहीं छोड़ पाया कभी

Ki kher wo to dil tod gayi
Magar me nehi tod paya kabhi
Aare me usko kya chhodata
Jo chai nehi chood paya kabhi

आखे महाबाट हे मेरी
आकद होनी चाहिए
वो चाहे लड़की होना चाय कोई
कड़क होनी चाहिए

Aakhe mahabatt he meri
Aakad honi chahiye
Wo chahe ladki hona chai koi
Kadak honi chahiye

पल भर में सड़िआ जी लेताहु
तन्हाई में चाय पे लेटा हू

Pal bhar me sadiaa ji letahu
Tanhae me chai pe leta hu

चाय मेरी महाबाट
और चाय मेरा प्यार
चाय बिना सब सुना सुना
चाय बिना सब बेकार

Chai meri mahabatt
Aaur chai mera pyar
Chai bina sab suna suna
Chai bina sab bekar

Chai Shayari in Hindi

”Shayari on Garam Chai”

सबके घरपे पैसा हो
और तेरे घर पे मन्दी हो जाये
दिल मेरा तोड़ने वाले
चाय तेरी ठंडी हो जाये

Sabke gharpe paisa ho
Aaur tere ghar pe mandi ho jaye
Dil mera todne wale
Chai teri thandi ho jaye

सुबह की पहली ख्वाहिस बन कर
तुम क्यों याद आते हो
चाय तो पेहली इश्क़ हे मेरा
तुम बादमे आते हो

Subaha ki peheli khwahis ban kar
Tum kyu yaad aate ho
Chai to peheli ishq he mera
Tum baadme aate ho

दोस्ती करनी हो या प्यार
चाय पे आओ मेरी यार

Dosti karni ho yaa pyar
Chai pe aao meri yaar

मरे हुए जिस्म में जान आयी है
ारे रोको मेरा जनाजा
चाय की दुकान आई हे

Mare huye jism me jaan aayi he
Aare roko mera janaja
Chai ki dukan aayi he

सब्द लखो हे दुनिआ में पर
महाबाट न जाने चाय से क्यों हो गयी हे

Sabda lakho he dunia me par
Mahabatt na jane chai se kyu ho gayi he

Chai Shayari in Hindi

”Tea shayari in Hindi”

न हसीं होनी चाहिए
न ज्यादा रंगों में रंगीन होनी चाहिए
जो थोड़ी सविली हो चाय की तरह
और चाय की थोड़ी सौकीन होनी चाहिए

Na hasin honi chahiye
Na jyada rango me rangin honi chahiye
Jo thodi sawili ho chai ki taraha
Aaur chai ki thodi soukin honi chahiye

तोह अर्ज़ किया है के
चाय इश्क़ हे, चाय प्यार हे
ारे चाय क आगे सब बेकार हे
चाय नासा हे, चाय मजा हे
चाय मीठी सी कोई सजा हे
हम चाय सेभी रिस्ता दिल का निभते हे
तुम कॉफ़ी से दिल बनते हो
हम चाय से दिल बनाते हे

Toh arz kiya he ke
Chai ishq he, Chai pyar he
Aare chai k aage sab bekar he
Chai nasa he, chai maja he
Chai mithi si koi saja he
Hum chai sebhi rista dil ka nibhate he
Tum coffee se dil banate ho
Hum chai se dil banate he

2 ही कारन हे में उसे आज तक नहीं भुला पाया
2 ही कारन हे में उसे आज तक नहीं भुला पाया
एक तो उसके जैसे कोई मिली नहीं
और दो उसके जैसे कोई चाय नही पिला पाया

2 hi karan he me ushe aaj tak nehi bhula paya
2 hi karan he me ushe aaj tak nehi bhula paya
Ak to uske jeyshe koi mili nehi
Aaur do uske jeyshe koi chai nehi pila paya

हमारी जेब में पैसे भले कम हो मगर हमारे वफ़ादारी कभी कम नहीं हो सकती
कोई हमें बेवफा कहे
यह बात कभी हमें अजब नहीं हो सकती
और इससे ज्यादा सबूत क्या दूँ मेरी वफ़ा का
की जून क गर्मी में भी मेरी चाय की तलब कम नहीं होता

Hamari Jeb mein paise bhale kam ho Magar Hamare wafadari Kabhi Kam Nahin ho sakti
Koi hamen bewafa kaho
Yah baat kabhi hamen ajab Nahin ho sakti
Aur isase jyada saboot kya dun meri wafa Ka
Ki June k garmi me bhi meri chai ki talab kam nehi hoto

उसे जब देखा जेहेर मिलाते हुए चाय में
मेने पिटे बास्केट फूक मार्डी मलए में
जरासा भी मलन नही ता जेहेर पिटे हुए
चाय क्यों खराप करे अपनी बेवफाई में

Ushe jab dekha jeher milate huye chai me
Mene pite backet fook mardi malae me
Jarasa bhi malan nehi ta jeher pite huye
Chai kyu kharap kare aapni bewafae me
Chai Shayari in Hindi

”Tea lover best Shayari”

तेरी बेवफाई में शरीफ दो ही शोक पलहे
एक सिगरेट और दूसरे चाय से काम चला रहेहे
तू गेरो से बलबती हे की उसे मना करो
ये ये जेहेर 1 सारः न पिए
तू खुद क्यों बोलती तेरे मुँह में क्या चले हे

Teri bewafae me shrif do hi shok palehe
Ek sigrate aaur dusra chai se kam chala rehehe
Tu gero se bulbati he ki ushe mana karo
Ye ye jeher 1 sarh na piye
Tu khud kyu bolti tere muh me kya chale he

दो गुट में पूरी जिंदगी जीनी है
एक बार तेरी झूठी चाय पीनी है

Do ghut me puri jindegi jini he
Ek baar teri jhuti chai pini he

यू तो लिखना मेरी आदत में है
कोई ऐसी शायरी समझे
गलती थोड़ी मेरी हे
में सरब नही चाय पिलाता हूँ
अब तुम मेरी चाय को महाबाट समझो
गलती थोड़ी मेरी हे

U to likhna meri aadat me he
Koi eshe shayari samjhe
Galti thodi meri he
Me sarab nehi chai pilata hu
Aab tum meri chai ko mahabatt samjho
Galti thodi meri he

उनके यादो मैं
मैं होश गवा बैठा हु
में चाय बनाते
अपना हैट जला बैठा हु

Unke yaado main
Main hosh gawa betha hu
Me chai banate
aapna hat Jala betha hu

एक महाबाट का सजा वो
देता हे दिन में दो बार
पहले सुबह
और सैम में चाय क वकत

Ek mahabatt ka saja wo
Deta he din me do baar
Pehele Subaha
Aaur sam me chai k waket
Chai Shayari in Hindi

”Best Shayari on Chai”

आप चाय क तरह प्यार तो करे
हब बिस्कट की तरह डूबना चाहते हे

Aap chai k taraha pyar to kare
Hub biskat ki taraha dubna chahate he

मुझे लग भी चाय की तरह पसंद हे
न जरुरत से ज्यादा मीठे
न जरुरत से ज्यादा फीके

Mujhe lag bhi chai ki taraha pasand he
Na jarurat se jyada mithe
Na jarurat se jyada phike

दोस्त भी बानाना बहत जरुरत हे साहब
नुकड्ड में चाय पोन मेहबूबा नहीं जाती

Dost bhi banana bahat jarurat he sahab
Nukadd me chai pone mehebuba nehi jati

चाय पे जब मिलते हे
तो शरीफ चाय की बाते करते हे

Chai pe jab milte he
To shrif chai ki baate karte he

में सबकी राय लेता हु
और दिल की भी सुनता हु
लोग महफ़िलो में शराब पीते हे
में चाय पीता हु
और शराब पिओगे तो नसे में रहगे
मेरी मनो चाय पीओ जानव मजे में रहगे

Me sabki rai leta hu
Aaur dil ki bhi sunta hu
Log mehfilo me sarab pite he
Me chai pita hu
Aaur sarab pioge to nase me rahage
Meri mano chai peoo janaw maje me rahage

Chai Shayari in Hindi

”Chai pe shayari for Tea Lover”

लबो को छूकर रूह में समा जाती हे
महाबाट हे या तालाब से हे
जो कुछ भी हे चाय से गालब सी हे

Labo ko chukar rooh me sama jati he
Mahabatt he ya talab se he
Jo kuchh bhi he chai se galab si he

थोड़े बिस्किट और चाय की नाम निकलती हे
अक्सर सर्द मौसम में
गजब शाम निकलती हे

Thode bisket aaur chai ki naam nikalti he
Aksar sard mousam me
Gajab sham nikalti he

बिना चाय क दिन नहीं निकला करते हे
बिना चाय क शमे नही ढला करते
जरा सर्द मौसम में पीके देखने
ये चाय किसका भला नहीं करती

Bina chai k din nehi nikla karte he
Bina chai k shame nehi dhala karte
Jara sard mousam me pike dekhna
Ye chai kiska bhala nehi karti

चाहे सर्दी हो या सर दर्दे
उसी को याद करता हु
मासूका, मासूका
तुम वही समझ लो
में चाय की बात करता हु

Chahe sardi ho ya sar darde
Ushi ko yaad karta hu
Masuka, Masuka
Tum wohi samj lo
Me chai ki baat karta hu

चाय की नोक झोंक पत्ती जैसी थी
और मुस्कराहट चीनी की मिठास थी
में बिचारा दूध सा रंग भी भूल गया
जो हल्की धीमी आंच में बैठा उसके पास था
और देखते ही देखते उसका दूध का
सफ़ेद चेहरा लाल सा होने लगा
चाय में पट्टी का और उसमे मेरी
महाबाट का कमाल होने लगा

Chai ki nok jhok Patti jaisi thi
Aaur muskurahat chini ki mithas thi
Me bichara dudh sa rang bhi bhul gaya
Jo halki dhimi aanch me betha uske pass tha
Aaur dekhte hi dekhte uska dudh ka
Safed chehera lal sa hone laga
Chai me patti ka aaur usme meri
Mahabatt ka kamal hone laga

Leave a Reply