हौसला पर शायरी हिंदी में | {Best 40+} Hosla Shayari & Quotes in Hindi

हौसला पर शायरी

कोई भी इंसान को अपनी होसला हारना नहीं चाहिए. इंसान को अपनी मंजिल पाने के लिए अपनी होसला रख कर काम करना बेहत जरुरी हे|
जब इंसान के मन में होसला और आत्मबिस्वाश हो तो वो किसीभी काम को आसानीसे कर सकता हे| आपने अन्दर का होसला हो बरक़रार रखने क लिए आपको कुछ Motivational Quotes, YouTube videos, Motivational Audio और Blog post को रीड करना चाहिए|
अगर आप कुछ होसला पर शायरी के लिए इस शायरी वेबसाइट को आयेहो तो आप बिलकुल सही जगमे हो| हम्म इस Post में आपके लिए बहत सारे हौसला पर शायरी हिंदी में लाये हे इस होसला शायरी को पढ़े और अपनी जीवन में ऐसे इस्तिमाल करे|
अगर इस होसला शायरी को आप अपनी जीवन में इस्तिमाल करेंगे तो आप कभी भी अपना हौसला नहीं हराओगे और मोटीवेट रहोगे| तो आपको आपकी मंजिल आसानी से मिल जायेगा|

मेरा मुक़ाम बड़ा है,
फिर तो मेरी मुश्किल भी बड़ी होगी,
पैर क्यों हरो हिम्मत,
एक दिन मेरी हस्ती भी बड़ी होगी

मौसम चाहे कितना भी खराब हो,
अपनी मंजिल की उड़ान भरकर दिखेगा,
और मेरे हालात कहते हैं तू वापस मुड़जा
मेरा होसला कहता है तो करके दिखेगा

उसे गुमा हे की मेरी उड़ान कुछ कम हे,
मुझे यकीं है की ये आसमान कुछ कम हे

मुश्किल वह चीज होती है,
जा हम्मे तब दिखाई देती है,
जब हमारा ध्यान लक्ष्य पर नहीं होता

वाकिफ़ कहा जमना हम्मारी उडान से
वो और थे जो हार गए आसमान से

ए मौसम तू चाहे कितना भी बदल जा,
पैर तुझे इंसान की तरह बदलने का हुनर आज भी नहीं है

आखों में पानी रखो, होठो में चिंगारी रखो
जिंदा रहना है तो तरकीबे बहत सारी रखो
रहा की पठार से बढ़के, कुछ नेहिहै मंजिले
रस्ते आवाज़ देतेहै, सफर जारी रखो

जो तूफानों में पलटे जा रहे हैं
वही दुनिआ बदलते जा रहे हैं

हौसला पर शायरी

“Hosla Badhane Wali Shayari”

कल का क्या भरोसा तू चल अभी, तू चल अभी,
जीत जाओ हर जंग, मंजिल तुमसे कह रही है
भरोसा तो अपनी बाजुओं पे है,
अरमान तेरा कहे रहा है, जान तेरी केहे रहीहे

गुस्ताख हवाओं से डरना नहीं चाहिए,
समझौता हर हालात से करना नहीं चाहिए,
लक्ष्य तू बेचैन है तुम्हें पाने के लिए,
आँखों का ख्वाब बस मिलाना नहीं चाहिए

तीर खाने की हबस हे तो जिगर पैदा कर
सरफोरोसी की तमन्ना है तो सर पैदा कर

ये कहके दिल ने मेरे हौशले बढ़ाये हे
गाममो की धुप क आगे खुसी के साये हे

वक्त आने दे दिखा देंगे तुझे ऐ आसमां
हम्म अभिसे क्यों बताये क्या हुम्मारी दिल में है

हुमंको मिटा सके ये ज़माने में दम्म नही
हुमंसे ज़माना ख़ुद है ज़माने से हम्म नही

यकीं हो तो कोई रास्ता निकलता हे
हवा की आउट भी ले कर चराग जलता हे

आब हवाये ही करेंगी रोशनी का फैशला
जिस दीये में जान होंगी वो दिया रहे जायेगा

Hosla Shayari in Hindi

“हौसला पर शायरी हिंदी में”

सरफोरोसी की तमन्ना अब हमारी दिल में है
देखना है जोर कितना बाजू-इ-कातिल में है

हार नहीं मानेंगे, होसले इतनी बड़े हे की
बड़े बड़ो को हरा देंगे
और थोड़ा सा इंतज़ज़र तो करो
सर से पाऊ तक आपको पूरा हिला देंगे

हद्दे सेहर से निकली तो गाओं गाओं चली
कुछ याद मेरे संग पांव पांव चली
सफर जब धूप का हुआ, तो तजुर्बा हुआ
वो जिंदगी ही क्या जो चाओ चाओ चली

परिंदों को मंजिल मिलेंगी यकीनन
ये फेल हुए उनके पर बोलते हे
अक्सर वो लोग खामोश रेहतेहै
ज़माने में जिनकी हुन्नर बोलते हे

चलता रहूँगा पथ पर,
चलने में मजीर बन जाऊंगा
यतो मंज़िल मिल जायेगी
या अच्छा मुसाफिर बन जाउंगा

उठो तो ऐसे उठो,
की फक्र हो बुलंदी को,
झुको तो ऐसे झुको,
की बन्दगी भी नास करे

खोल्दो पंख मेरे केहेताहे परिन्दा,
अभी और उड़ान बाकी है
जमी नही हे मंजिल मेरी,
अभी पूरा आसमान बाकी है

आखो में मंजिले थी,
गिरे और सँभालते रहे,
आंधिओं में क्या दाम था
चिराग वह में भी जलते रहे

हौसला पर शायरी

“Rakh Hosla Shayari in Hindi”

क्यों डरे की ज़िन्दगी में क्या होगा
हार बास्केट क्यों सोचे की बुरा होगा
बढ़तेरहस बी मंजिल की और
हममें कुछ मिले या न मिले
तजुर्बा तो नया होगा

ख्वाब टूटे है मगर होसले जिन्दा हे,
हम्म वो हे जहा मुस्किले सर्मिन्दा हे,

बदल जाओ वक्त्त क साथ,
या फिर वकत बदलना सीखो
मजबूरिओ को मत कोसो
हर हाल में चलना सीखो

जमीन पर बैठ कर क्यों आसमान देखते हे,
पंखों को खोल जमन्ना शरीफ उड़न देखा हे.

मुझे मंजिल तक पहुंचना है,
फिर रास्तों की फ़िक्र कैसे,
अक्षरा तूफान के बाद ही आसमान साफ़ होता है

कितना वक़्त दिया है,
आपने हिम्मत कोबुलन्द करने में
एक पल में जाया हो,
इतनी छोटी हसरत में नही रखता

वक़्त से पहले अगर हर जाउँगा,
तू लोग नाकाम समझेंगे,
खामखा मेरी कोशिश मुझसे ही नाराज हो जाएगी

अभी जिन्दा है होसला, उड़ान बाकी है,
यह हवाओं का सिलसिला है, तूफान बाकि है
ये मुश्किलें अभी तो चलना सीखा है,
छलन बाकि है, असली मुकाम बाकि है

हौसला पर शायरी

“Hosla Shayari Hindi”

ये हालत तेरी जंजीर तोड़ जाऊँगा
अपने हाथों की लकीर मूड जाऊंगा
देखते रहे जाओगे आँखें फाड़ कर अपनी
तेरे सामने वह तस्वीर छोड़ जाउंगा

जिनको कहना है, कहने दो अपना क्या जाता हे
ये वक्त वक्त की बात हे, और वकत सभीका आता हे

की रख हौसला वो मंजर भी आएगा
और प्यासे क पास चल कर समुन्दर भी आएगा
वो थक कर ना बैठ मन्जिल को मुसाफ़िर
मंजिल भी मिलेगी, मंजिल मिलने का मजा भी आएगा

जो मुस्करा रही, उसे दार्द ने पाला होगा,
जो चल रही उसके पाँव में छाला होगा,
बिना संघर्ष क इन्सान चमक नही सकता,
जो जलेगा उसी दिये में तो उजाला होगा

ज़मीर ज़िंदा रख, कबीर ज़िंदा रख
सुल्तान भी बन जाये तो, दिल में फ़क़ीर जुन्दा रख
हौशले क तरकस में
कोशिस का वो तीर जिन्दा रख
हार जा चाहे जिंदगी में सबकुछ
मगर फिरसे जीतने की उम्मीद जिन्दा होगा

यु ही नही मुलती रही को मंजिल
एक जूनून सा दिल में जगाना होता हे
पूछा चिड़िया से कैसे बनाया आसिआना बोलल
धरनी पड़ती हे उडान बार बार
तिलना तिनका उठाना होता हे

दुनिआ का हर शौंक पाला नही जाता
कछ क खिलोनोको हवा में उछाला नही जाता
मेहनत करने से मुश्किल हो जाती है आसान
क्यों की हार जैम तक़दीर पर टाला नही जाता

यह वक़्त ने कहा की राहों में चलना पड़ेगा,
वार्ना पश्चाताप की आग में चलना पड़ेगा,
चमक जाएगी यह जिंदगी सोने की तरह
पहले जूनून की आग में जलना पड़ेगा

ये आसमान तू गुमान न कर अपनी ऊंचाई पर,
तुझ से ऊँचा तो मेरी दिल का हौसला है,
तेरे सीने पर लिख जाऊंगा कामयाबी का फ़साना,
यह मेरे दिल का लिखा हुआ फैसला है

किसी का साथ ये सोच कर मत छोड़िये,
की उसके पास कुछ नहीं आपको देने के लिए,
बस यही सोच कर उसका साथ निभाया करो,
की उसके पास कुछ नहीं आप के सिवा खोने के लिए
Hosla Shayari in Hindi

Leave a Reply