Top 20+ Mehnat shayari par shayari | shayari on mehnat

Advertisement

Jindegi main Kuchh hasil karna hai to, mehnat karna padta hai. Kyu ki karm hi bhagban hai. iss karm ya mehnat ko hum mehnat shayari ki madhyam se achhi tarha se bayan ki hai. Ap yaadi jindegi main achhe karm ke sath jindegi main Kuchh hasil karna chahate hai, hamaare ye mehnat shayari post apko prerana dega.

Chack out latest Shayari – Happy New Year Wishes for wife One-up India Sonu Sharma motivation quotesRomantic Shayari for wifeNafrat shayari in Hindi, Dhoka shayri in Hindi, Top 12 Motivational Quote chack out all quotes. 


Mehnat shayari
Mehnat shayari

Mehnat shayari


भगवान् ने दिया है बुद्धि
अच्छे कर्म करने के लिए
अच्छे कर्म करना है हमें
जिंदगी को सही तरह से जीने के लिए

Bhagwaan ne diya hai buddhi
achhe karm karne ke liye
Achhe karm karna hai hame
Jindegi ko sahi tarha se jine ke liye


ये तो मेहनत का फल है
जो खेतो में सोना उगलता है
किसानों की कड़ी मेहनत की वजह से
पेट को दाना मिलता है

Advertisement

Ye to mehenat ka fal hai
Jo kheto main sona ugalta hai
Kisano ki kadi mehenat ki wajah se
Pet ko dana milta hai


चलो थोड़ी कदम आगे चलते है
जिंदगी को अछि मंजिल से सजाते है
चाहे कितना कस्ट क्यों न ए
मेहनत से कभी चूकना नही है

Cholo thodi kadam age chalte hai
Jindegi ko achhi manjil se sajate hai
Chahe kitna kast kyu na aye
Mehenat se kabhi chukna nehi hai


चाहे जितना भी तुम हासिल करो जिंदगी मैं
सुकून होता है
मेहनत से कमाया हुआ फल मैं

Chahe jitna bhi tum hasil karo jindegi main
Sukoon hota hai
mehenat se kamaya hua phal main


Mehnat shayari
Mehnat shayari

Kismat aur Mehnat Shayari


अपने दम से जीने वाला कभी किसीसे शर नहीं झुकता
क्यों कि अपना मंजिल का रास्ता वो खुद ही बनाता

Advertisement

Apne dam se jine wala kabhi kisise shar nehi jhukata
Kyu ki apna manjil ka rasta wo khud hi banata


न किसीसे पाने की इच्छा
न किसीको देने का
जिंदगी को खुद की डैम से जीना है
क्यों की जिंदगी है अपुन का

Na kisise pane ki ichha
Na kisiko dene ka
Jindegi ko khud ki dam se jina hai
Kyu ki jindegi hai apun ka


पंक्सि का घर कोई तोड़ दे तो ,
उसके ऊपर कुछ असर नही पड़ती है
क्यों की वो अपना घर को ,
फिर से बनाना जानती है

Panksi ka ghar koi tod de to ,
Uske upar kuchh asar nehi padti hai
Kyu ki Wo apna ghar ko ,
Phir se banana janti hai


वो कामयाबी का शार छूटा है
जो कर्म को भगवान् मानता है
अपने ड्यूटी को पूजा करता है
आखरी सांस तक खुद के ऊपर भरोषा रखता है

Wo kamiabi ka shar chhuta hai
Jo karm ko bhagwaan manta hai
Apne duty ko puja karta hai
Akhri sans tak khud ke uper bhorosha rakhta hai


Mehnat shayari
Mehnat shayari

Parishram shayari in Hindi


मेहनत ितनिअ करना है
की हर सपना हक़ीक़त बन जाये
हर मुश्किल आसान हो जाये
हर सफलता है रास्ता मिल जाये

Mehenat itnia karna hai
Ki har sapna haqiqat ban jaye
Har muskil asan ho jaye
Har safalata ha rasta mil jaye


तुम अपनी साधना को बाजय रखना
होशला मत हारना
हमेशा उम्मीद रखना
हर कामयाबी को जितना

Tum apni sadhna ko bajay rakhna
Hoshla mat harna
Hamesha ummeed rakhna
Har kamiabi ko jitna


टखना मत, चलते रहना
चाहे धूप की बारी आ जाये
ऐसे ही कदम पकाना
जब तक मंजिल का दुआर न आ जाये

Takhna mat, chalte rehena
Chahe dhoop ki bari aa jaye
Yese hi kadam pakana
Jab tak manjil ka duar na aa jaye


तुम्हारी अंदर की हौशले को जगाओ
हिम्मत न हारो
मेहनत करते चलो
कामयाबी एक दिन ज़रूर मिलेगी

Tumhari andar ki hoshle ko jagao
Himmat na haro
Mehenat karte chalo
Kamiabi ek din zaroor milegi


Mehnat shayari
Mehnat shayari in Hindi

Mehnat par shayari


को सुकून की ज़रुरत है
सुकून मैं जीने के लिए सिर्फ मेहनत
मेहनत करने से न चूको
मेहनत ही करेगा हर मुसीबत का अंत

Jindegi ko sukoon ki zaroorat hai
Sukoon main jine ke liye sirf mehenat
Mehenat karne se na chuko
Mehenat hi karega har musibat ka ant


कर्म का फल ही अच्छे है
जल्द मिलता नही
दरया के साथ कर्म करना है
छोड़ना नहीं

Karm ka phal hi achhe hai
Jald milta nehi
Darya ke sath karm karna hai
Chhodna nehi


ाकर या पैसो से कई भी बड़ा नहीं है
जितने महापुरुष है
उनके अच्छे कर्म की वजह से,
दुनिया में नाम की है

Akar ya paiso se kai bhi bada nehi hai
Jitne mahapurush hai
Unke achhe karm ki wajah se,
Duniya main naam ki hai


किसान का कहानी है ये
धुप मैं शदता
दर्द को महसूस न करता
सारे देश को खाना खिलाता

Kisan ka kahani hai ye
Dhoop main shadta
Dard ko mehsoos na karta
Sare desh ko khana khilata


जरा फिल्कार करो उनको
जिसके लिए तुम जीबित हो
उनके कर्म की वजह से
कुछ खा पाते हो

Jara filkar karo unko
Jiske liye tum jibit ho
Unke karm ki wajah se
Kuchh kha pate ho


Advertisement

Leave a Comment

%d bloggers like this: