Famous Shayari of Rahat Indori in Hindi – 20+ Best राहत इंदौरी की शायरी

IMG 20210709 043759
Hindi Shayari Collestion have best Collestion of Rahat Indori shayari in Hindi for you. If you are big fan of Rahat Indori, you are in the right place. He is a one of the best shayar and He has earned so much name in Shayari world. Enjoy our 20+ famous Rahat Indori shayari in Hindi and share with your friends and check out our trending Ansh pandit shayari in hindi and life shayari in hindi.

⏬20 + Rahat Indori shayari in Hindi⏬

IMG 20210709 043854

”Rahat Indori shayari in Hindi”

में यही कहूँगा की 
गुलाब, ख्वाब, दवा, ज़हर, जाम क्या क्या हे
गुलाब, ख्वाब, दवा, ज़हर, जाम क्या क्या हे
में आगया हु बता इंतज़ाम क्या क्या है

Me yahi kahunga ki 
Gulab, khwab, dawa, Zeher, jaam kya kya he
Gulab, khwab, dawa, Zeher, jaam kya kya he
Me aagaya hu bata intezaam kya kya hai

आग के पास कभी माँ को लाकर देखूँ
हो इजाजत तो तुझे हाट लगाकर देखो

Aag ke paas Kabhi mom ko lakar dekhun
Ho ejajat to tujhe haat lagakar dekhu

की तूफ़ानोंसे आँख मिलाओ
सैलाबों पर वार कारु
मल्लाहों का चक्कर छोडो
तेर के दरिया पार करो

Ki tufanose aakh milaoo
Selabon par waar karoo
Mallahon ka chakkar chhodo
Tair ke dariya paar karo

फूलों की दुकान खोलो
खुशबु का व्यापार करो
इश्क खता है
तो ये खता 1 बार नेही 100 बार करो

Phoolon ki dukaan kholo
Khushbu ka vyapar karo
Ishq khata hai
To ye khata 1 baar nehi 100 baar karo

IMG 20210709 044431

”Rahat Indori shayari in Urdu”

किसने डाटक दी
ये डिल पर कौन हे?
आप तो अंदर है, बहार कौन है !

Kisne daatak di
Ye dill par kaun he?
Aap to andar hai, bahar kaun hai !

राज़ जो कुछ हो 
इशारों में बता ही देना
हाथ जब उनसे मिलना
तो दबा भी देना

Raaz jo kuchh ho 
Isharon mein bata hi dena
Hath jab unse milana
To daba bhi dena

झूठों ने झूठों से कहा
सच बोलो
सरकारी ऐलान हुआ है
सच बोलो
घर के अंदर जूतों की एक मण्डी है 
दरवाजे पर लिखा है सच बोलो

Jhuthon ne jhuthon se Kaha
Sachh bolo
Sarkari elaan hua hai
Sachh bolo
Ghar ke andar juton ki ek Mandi hai 
darwaje par Likha hai sach bolo

आपनी पेहेचान मिटने को कहा जात्ता हे
बस्तिआ छोड़ क जाने को कहा जात्ता हे
बस्ति रोज़ गिरा जाती है शहर सिली हवा 
और हमें पेड़ लगाने को कहा जाता है

Aapni pehechhan mitane ko kaha jatta he
Bastiaa chhod k jane ko kaha jatta he
Basti roj Gira jaati hai shahar sili hawa 
aur hamen ped lagane ko kaha jata hai

IMG 20210709 044530

”Famous Rahat Indori shayari in Hindi”

अभी गनीमत है साबरा मेरा 
अभी लबालब भरा नही हु
वो मुझको मुर्दा समः रहा हे
उसे कहा में मरा नही हु

Aabhi ganimat he sabra mera 
Aabhi labalab bhara nehi hu
Wo mujhko murda samah raha he
Ushe kaha me mara nehi hu

जेक ये कही वो सोलो से
चिंगारी इश्क़ है
फूल इसबार खिलेगी बड़ी तैयारी है
मुदात्तो क बाद यु तब्दिल हुआहै मौसम
जैसे छुटकारा मिली हो बीमारी से

Jake ye kehese wo solo se
Chingari ishq he
Phul esbar khilegi badi teyari he
Mudotto k baad yu tabdil huaahe mousam
Jeyshe chhutkara mili ho bimari se

जिंदगी की हर कहानी
बे असर हो जाएगी हम न हो तो
ये दुनिआ दरबदर हो जाएगी
पाऊ पत्थर हो जाएगी
चलते रहो तो जमीं भी हमसफ़र हो जाएगी
जिंदगी की हर कहानी
बे असर हो जाएगी

Jindagi ki har kahani
Be aasar ho jayegi hum na ho to
Ye duniaa darbadar ho jayegi
Paoo pathar ho jayegi
Chalte roho to jamin bhi humsafar ho jayegi
Jindagi ki haar kahani
Be aasar ho jayegi

जब मैं मर जाऊं 
मेरी अलग पहचान लिख देना
लहू में मेरी पेशानी में हिंदुस्तान लिख देना
यहाँ की मिटटी में हिंदुस्तान लिख देना

Jab main mar jaaun 
meri alag pahchan likh dena
Lahu me meri pesani me Hindustan likh dena
Yaha ki mitti me Hindustan likh dena

IMG 20210709 044329

राहत इंदौरी शायरी हिंदी 4 लाइन”

अर्ज़ किया है कि ये जिंदगी सवाल थी
जवाब मांगने लगे
फरिस्ते आके खाब में हिसाब मांगने लगे
इधर किया करम किसिपे 
और इधर जाता दिया
नमाज़ पढ़ कर आयेहो और सरब मांगने लगे
सुख़नवरो ने खुद बना दिया
सुखं को एक मजाक
जरा सी डाट क्या मिली ख़िताब मांगने लगे
तिजरता का रंग भी इबादत्त में आगया
सलाम मांगते ही सवाल मांगने लगे

Arz kiya he ki ye jindagi sawal thi
Jawab mangne lage
Fariste aake khaab me hisab mangne lage
Idhar kiya karam kisipe 
Aaur edhar jata diya
Namaz padh kar aayeho or sarab mangne lage
Sukhanworo ne khud bana diya
Sukhan ko ek majak
Jara si daat kya mili khitab mangne lage
Tijrata ka rang bhi ibadatt me aagaya
Salam mangte hi sawal mangne lage 

नदी किनारे आप पुछे हे
रेभर वेभर सब
टूट चुके जब कास्टि वष्टि लैंगर वनगर सब
जिस दिन से तुम रूठी
मुझसे रुठे रुठे हे
चादर, वाडर, तकिया, वाकिया, बिस्तर बस
मुझसे बिछड़ कर वो भी कहा अब पहले जैसे ही
फिके पड़गए कपडे, वोपदे, जेवर, वेबर सब
मुझसे बिछड़ कर कहा वो भी पहले जैसे ही
जेवर वेबर इश्क विश्क क सारे नुस्खे मुझसे सीखते हे
सागर, वगर, मनगर, वनगर, जहर, बाहर सब

 

Nadi kinare aap puchhe he
Rebhar webhar sab
Tut chuke jab kasti washti langer wanger sab
Jis din se tum ruthi
Mujhse ruthe ruthe he 
Chadar, wadar, takiya, wakiya, Bister bas
Mujhse bichadkar wo bhi kaha ab pehele jeyshe he
Phike padgaye kapde, wopde, jewar, weber sab
Mujhse bichhad kar kaha wo bhi pehele jeyshe he
Jewar weber ishq vishq k saare nuske mujhse sikhte he
Sagar, wagar, mangar, wanger, jahar, wahar sab

Leave a Reply