Latest 30+ Trust / Vishwas shayari | विश्वास शायरी in Hindi

Advertisement

Vishwas aaur Trust , ek behen iski bhai ke upar rakhta hai, ek premi ek premika ke upar rakhta hai or jo jiban main Kuchh kamiyabi ko hasil karna chahata hai wo khud ke upar bhorosha ya biswas rakhta hai. In sab logo ke bichh main jo bhorosha todne or jodne wali sawal reheta hai hum in sabhiko hum bayan karke hamare sayar vishwas shayari main post kiya hai. App hamaare vishwas shayari ke madhyam se app ki andar main jo biswas karne wali sawal reheta hai, wo asani se door kar sakte hai.

Chack out also some Trending post-Dr Vivek Bindra Quotes, Swami Vivekananda Motivational quotes, Ujjwal Patni Motivational QuotesTop 12 Motivational QuoteRomantic Shayari for wifeDhoka shayari in HindiNafrat Shayari in Hindi,oneupindia chack out all quotes.

vishwas shayari
vishwas shayari

Vishwas shayari


हर कामयाबी को जीतने का शौक जो रखते है
उनके अंदर बिवास वाला चीज़ रहनी चाहिए
बिस्वास अपने अंदर रहा तो,
वो चाँद मैं भी अपना घर बना सकता है

Har kamiabi ko jitne ka shouk jo rakhte hai
Unke ander biwas wala cheez reheni chahiye
Biswas apne andar raha to,
Wo chand main bhi apna ghar bana sakta hai

Advertisement

भरोषा तो तोडा है तुमने
पैर बिस्वास किस बात का
छोड़ दिया उस बेवफाई को
दिल चुराया था जिसका

Bhorosha to toda hai tumne
Per biswas kis baat ka
Chhod diya us bewafaai ko
Dil churaya tha jiska


जो तुमसे खुद से ज्यादा भरोषा करता है
समझ जाना वो तुमसे सच्चे दिल से चाहता है
उसको भरोषा और बिस्वास कभी न तोडना
उसको हमेशा अपना केहेना

Jo tumse khud se jyada bhorosha karta hai
Samajh jana wo tumse sachhe dil se chahata hai
Usko bhorosha aur biswas kabhi na todna
Usko hamesha apna kehena


यकीं तो मैंने किया था
पर तुमने क्या किया
तुम्हारी बेवफाई की आग से मुझे जला दिया

Yakin to maine kiya tha
Per tumne kya kiya
Tumhaari bewafaai ki ag se mujhe jala diya


vishwas shayari
vishwas shayari

Vishwas shayari in hindi


खुद की कर्म के ऊपर भरोसा रखो
जितने भी असफलता कही आ जाये
इस कर्म को हमेशा बजया रखना
कही कामियाबी का एक सीडी मिल जाये

Khud ki karm ke upar bharosa rokho
Jitne bhi asaphalta kahi aa jaye
Iss karm ko hamesha bajaya rakhna
Kahi kamiyabi ka ek sidi mil jaye

Advertisement

कितना भरोषा करती हो न तुम मुझको
इस बिस्वास को कभी तोडूँगा नही
और तुम्हारी इस प्यार भरी दिल को
रखूँगा मैं मेहफ़ूज़ से ही

Kitna bhorosha karti ho na tum mujhko
iss biswas ko Kabhi todunga nehi
Or tumhari iss pyar bhari dil ko
rakhunga main mehfooz se hi


रात को रौशनी चाहिए
प्यार को भरोषा चाहिए
और जिंदगी को खुदसे ज्यादा
भरोषा करने वाली एक साथी चाहिए

Rat ko roshni chahiye
Pyar ko bhorosha chahiye
Or Jindegi ko khudse jyada
bhorosha karne wali ek sathi chahiye


हमरे माँ बाप ने हमेशे बहत उम्मीद रखी है
की हम उनके खुसी का छाया बनके रहे
उनके हर गम को भुलाये
और उनके साथ साथ जिए

Hamere maa baap ne hameshe bahat ummeed rakhi hai
Ki Hum unke khusi ka chhaya banke rahe
unke har gam ko bhulaye
Or Unke sath sath jiye


vishwas shayari
vishwas shayari

Vishwas par shayari


भरोसा मत तोड़ो उस माँ का
जिस माँ ने तुमको जन्म दिया है
प्यार तो सभी लोक करते है
लेकिन माँ का प्यार स्वर्ग से भी अच्छा रहता है

Bharosa mat todo uss maa ka
Jis maa ne tumko janm diya hai
Pyar to sabhi lok karte hai
Lekin maa ka pyar swarg se bhi achha reheta hai


ज़रा यकीन करो मेरा
कितना चाहता हूँ तुम्हे
प्यार तो मैंने कर लिया
बस भरोषा दिलाना बाकि है

Zara yakin karo mera
Kitna chahata hoon tumhe
Pyar to maine kar liya
Bas bhorosha dilana baki hai


बिस्वास जिंदगी का एक ऐसा हिस्सा है
जो हर रिश्ते को जुड़वाँ देता है
पैर भरोषा किसी ने एक बार दिला दिया तो
उसके साथ ही वो सांस लेने लगता है

Biswas Jindegi ka ek yesa hissa hai
Jo Har rishte ko judwa deta hai
Per bhorosha kisi ne ek bar dila diya to
Uske sath hi wo sans lene lagta hai


किस तरह का प्यार है ये
भरोषा दिया जैसे तोडा भी ऐसे
मुझे छोड़ कर तो तुम चलेगये
क्यों तुम मेरे मगर खुश रहे पाओगे

Kis tarha ka pyar hai ye
Bhorosha diya jaise toda bhi yese
mujhe chhod kar to tum chalegaye
Kyu tum mere magar khus rehe paoge


vishwas shayari
vishwas shayari

Vidhwas ki shayari


सात जनम क लिए तुम्हारी हाथ पकड़ा मैंने
खुद से ज्यादा मुझे बिस्वास किया तूने
पर इतना यकीन दिला पाउँगा नही मैंने
रखूँगा तुमको हमेशा कुश मैं

Sat janam k liye tumhari hath pakda maine
Khud se jyada mujhe biswas kiya tune
Per itna yakin dila paunga nehi maine
Rakhunga tumko hamesha kush main


भाई बहन की जो रिश्ता सारे रिश्तों से अलग है
उनके बीच जो श्रद्धा भरा प्यार है
शायद दुनिया की किसी भी कोने मे नही है

Bhai behen ki jo rista sare risto se alag hai
Unke bichh jo sradhha bhara pyar hai
Sayad duniya ki kisi bhi kone mai nehi hai


एक बहन
उनकी भाई से ये उम्मीद रखते है की
वो उनको सारा जीवन सही सलामत रखे
और एक भाई चाहता है उनकी बहन हमेशा खुश मैं दिखे

Ek behen
Unki bhai se ye ummeed rakhte hai ki
Wo unko sara jiwan sahi salamat rakhe
Aur ek bhai chahata hai unki behen hamesha khush main dikhe


जिन्दगी ने तुम्हे कुछ नही माँगा
बस थोड़ी सी प्यार की उम्मीद किया
मेरे सरे उम्मीद तो तुमने तोड़ दिया
पैर कैसे करूं मैं तुमसे भरोषा

Jindegi ne tumhe Kuchh nehi manga
Bas thodi si pyar ki ummeed kiya
Mere Sare ummeed to tumne tod diya
Per kaise karu main tumse bhorosha


🤗Thanks for visiting our page keep smiling🤗

Advertisement

Leave a Comment

%d bloggers like this: