{Best} 30+ Zakir Khan Shayari, Quotes, Comedy and Bio in Short

Zakir Khan Shayari and Quotes
Zakir Khan is a famous Stand-up comedian, YouTuber, Writer, and Poet. He is a very relented Shayari and Poet as well we know. He had a very struggling life. Hindi Shayari Collection is collected the best Zakir Khan Quotes and Shero Shayari in Hindi for you.  Read Zakir Khan Quotes in Hindi and Share with you, friends, and family. He has created some amazing quotes for Self-respect, Sakta Lunda, about Father love and more so we have brought you all of the best Zakir Khan Quotes, Shayari, about love.

We have more Shayari and Quotes like Sonu Sharma Quotes, Ansh pandit Shayari, Life Shayari in hindi, Dr Vivek bindra quotes and more you can read in our website Hindi Shayari Collestion.

Zakir Khan Biography

Full Name Zakir Khan
Date of birth 20 August 1987 in Indore
Age 33 Years
Educational Qualification B.Com(Drop out)
Diploma in Sitar
Profession Standup Comedy, Youtuber, Writer, Poet
Religion Islam
Nationality Indian
Marital Status Unmarried
Hobbies Playing the sitar, Singing, Composing Song
Fevourite Actor Nawazuddin Siddiqui
Zakir Khan Quotes

”Zakir khan Shayari in Hindi”

बहत अच्छे से पता हे की 
कोनसा दोस्त हे कोनसा दोस्त नही हे
क्यों की एषा हे की 
हम भी किसीका दोस्त हे

Bahat achhe se pata he ki 
Konsa dost he konsa dost nehi he
Kyu ki yesha he ki 
Hum bhi kisika dost he

सकता लुणदे हे इज्जत से रहते हैं अपने

 

Sakta lunde he ijjat se rahte hain Apne

हम की एक पीढ़ी हैं
टूटे दिल और टूटे हुए लोग

 

We are a generation of
Briken heart and broken people
झूठे हैं वो लोग
वो जो बोलते हैं की आदमी रो नहीं सकता
– पूछने वाला चाहिए
Jhuthe Hain wo log
Wo Jo bolate Hain ki aadami roo Nahin Sakta
– puchne wala chahiye
अंगारो में लिपटी रही रूह मेरी
मैं इस तरह आग न होता
जो हो जाती तू मेरी
Angaro mein lipti rahi ruh meri
Main is Tarah aag Na hota
Jo ho jaati Tu meri
Zakir Khan Quotes in Hindi

”Zakir Khan Shayari on Love”

 मेरा 2-4 ख्वाब हे जो में आसमान से दूर चाहतहु

जिंदगी चाहे गुमनाम रहे मोइत में मसहूर चाहतहु

Mera 2-4 khwab he jo me aasman se dur chahatahu

Jindagi chahe gumnam rehe moit me masuhur chahatahu

कुछ कोशिश से तयारी के लिए भी होती है
फिर खड़े होंगे फिर लड़ेंगे

 

Hamara Kuch koshish se taiyari ke liye bhi hoti hai
Fir khade honge fir ladenge

शायद मुझे कभी किसी से मोहब्बत नहीं हुए
लेकिन यककेँ सबको दिलाता रहा हूँ मैं

Shayad mujhe Kabhi Kisi ladki se mohabbat huaa nehi
Lekin yakken sabko dilata Raha Hun main

गिरते हैं से सबेरे मैदान जंग में 
वो टाफिले क्यों गिरेंगे जो घटना की वेल चले -अगर अपने कोशिश ही नहीं की तो क्या फेलियर और क्या सक्सेस

Girte Hain se sabere maidane Jung mein 
Wo tafile kyu girenge Jo ghatna ki well chale -agar Apne koshish hi Nahin ki to kya failure aur kya success

कुछ इस तरह तेरे मेरे रिश्ते ने आखिरी सांस ले
न मैंने पलट कर देखा
न तुमने आवाज़ दी

Kuch is Tarah tere mere rishte ne aakhiri sans le
Na maine palat kar Dekha
Na Tumne awaaz dee

शायद उसके रस्ते में मुझसे बेहतर लोग पद गए
वह बेवफा तो नहीं थे मगर आगे जरूर बढ़ गयी

Shayad Uske raste mein mujhse behtar log pad Gaye
Vah bewafa to Nahin the magar aage jarur badh gayee
Zakir Khan Quotes in English

 ”Zakir Khan Quotes on Struggle and Success”

यह तो भूले है की लोग 
हमें पहले ही बहुत से
प्र तुम जितना उसने से 
कोई यद् नहीं आया

 

Yah to bhule hai ki log 
hamen pahle hi bahut se
Pra tum jitna usne se 
koi yad Nahin Aaya

 

वह तितली की तरह आई
जिंदगी को भाग कर गई
मेरे जितने नापक थे 
इरादे उसे पेर कर गई

 

Vah titli ki Tarah aai
 jindagi ko bhag Kar gai
Mere jitne napak the 
Erade use per Kar gai

 

बतादेना सब्को की में मतलबी बड़ा था
हर बड़े मकाम में तनहा ही खड़ा था
मेरा सब बुरा भी कहना, अच्छे भी कहना
में जब दुनिआ से जाऊं तो मेरी दास्ताँ भी सुनना
Batadena sabko ki me matlabi bada tha
Har bade makam me tanha hi khada tha
Mera sab bura bhi kehena, achhe bhi kehena
Me jab dunia se jauu to meri dastan bhi sunana

भूख देखि है, देखि है तिरस्कार
कदमों से चल चल कर रस्ते को बदलते देखा हैं
देखि है न उमडी अपमान देखा है
न चाहते हुए ा माँ बाप का झुकते हुए आत्म सम्मान देखा है
सपनों को तूट देखा है अपनों को चुत देखा है
हालात के बंजर जमीन फाड़ कर निकला हूँ
बेफिक्र रही है मैं सौरात की धुप में नहीं जलूँगा
आप बस साथ बनाए रखिए अभी तो मैं लम्बा चलूँगा

Bhook dekhi hai, dekhi hai tiraskar
Kadmo se chal chal kar raste ko badalte Dekha hain
Dekhi hai Na umadi apman Dekha hai
Na chahte hue a man baap Ka jhukte hue atma samman Dekha hai
Sapnon ko tut Dekha hai apno ko chut Dekha hai
Halat ke banjar jameen phad kar nikala hun
Befikar rahi hai main Saurat ki dhup mein Nahin jalunga
Aap bus sath banae rakhiye abhi to main lamba chalunga

 

की वह राग्नि रहे मैं सोलो सा देखता हूँ
रंग भी सबके जैसा ही सही तो महकता हूँ
एक अक्षय से हुन था में कश्ती को भंवर में
तूफ़ान से ज्यादा साहिल से सिहरता हूँ
दिन रात मेहनत करने क बाद भी गला घोट घोट क जीता हु
खाने का बक्त तेये नेही और कम बहत ज्यादा
इजत्त कम और पेशा उसे भी कम
माँ बाप का साथ नहि किसीके केहे पे भोरिसा हो जाये ऐसी किसीमे बात नेहु
Ki vah ragni rahe main solo sa dekhta hun
Rang bhi sabke jaisa hi Sahi to mahakta hun
Ek Akshay se hun tha mein kashti ko bhanwar mein
Toofan se jyada Sahil se Siharta hun
Din rat mehenat karne k baad bhi gala ghot ghot k jita hu
Khane ka bakt teye nehi aaur kam bahat jyada
Ijatt kam aaur paysha ushe bhi kam
Maa baap ka sath nehi kisike kehe pe bhorisa ho jaye yesi kisime baat nehu
Ye bade seher bahat karja he tere uper
Sab chukaunga bari bari se
ये बड़े सेहेर बहत कर्जा हे तेरे ऊपर
सब चुकाऊँगा बरी बरी से
बस का इंतज़ार करते हुए मेट्रो में खड़े खड़े
रिक्शा में बैठे हुए
गैरिसन में क्या देखते रहते हो
घूम सा चेहरा लेकर क्या सोचते रहते हो
क्या खोया क्या पाया हिसाब नहीं लगा पाये इस बार भी 
घर नहीं जा पाये न इस बार भी
Bus Ka intezar karte hue metro mein khade Khade
Rickshaw mein baithe huye
Garrison mein kya dekhte rahte ho
Ghoom sa chehra lekar kya sochte rahte ho
Kya khoya kya paya hisab Nahin laga paye is bar bhi 
Ghar Nahin ja paye na is baar bhi
अपने आप के भी पीछे खड़ा हूँ मै
अपने आप के भी पीछे खड़ा हूँ मैं
जिंदगी कितना धीरे चल रहा हूँ मैं
मुझे जगाने और भी हसीन हो के आते थे
वो खाबो को समझ कर सोया हुआ हूँ मैं
जिंदगी कितना धीरे चल रहा हूँ मैं
Apne aap ke bhi piche khada Hun mai
Apne aap ke bhi piche khada Hun main
Jindagi Kitna dheere chal Raha Hun main
Mujhe jagane aur bhi hasin ho ke aate the
Wo khabo ko samajh Kar soya hua Hun main
Jindagi Kitna dheere chal Raha Hun main
यह खत है उसे गुंडन के नाम जिसका खुल कभी हमारा था
वजह अब तुम उसके मुख़्तार हो तो सुन लो उसे अच्छा नहीं लगता
मेरे जान के हक दार हो तो सुन लो उससे अच्छा नहीं लगता

 

Yah khat hai use gundan ke naam jiska khul Kabhi hamara tha
Vajah ab tum Uske mukhtar ho to sun lo use achcha Nahin Lagta
Mere jaan ke haq daar ho to sun lo usse achcha Nahin Lagta

Leave a Reply